संदेश

जनवरी, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मध्यप्रदेश का इतिहास

चित्र
सन् 1857 की क्रांति में मध्यप्रदेश का बहुत असर रहा। बुदेला शासक अंग्रेजों से पहले से ही नाराज थे। इसके फलस्वरूप 1824 में चंद्रपुर (सागर) केजवाहर सिंह बुंदेला, नरहुत के मधुकर शाह, मदनपुर के गोंड मुखिया दिल्ली शाह ने अंग्रेजों के खिलाफ बगावत कर दी। इस प्रकार सागर, दमोह, नरसिंहपुर से लेकर जबलपुर, मंडला और होशंगाबाद के सारे क्षेत्र में विद्रोह की आग भड़की, लेकिन आपसी सामंजस्य और तालमेल के अभाव में अंग्रेज इन्हें दबाने में सफल हो गए। " alt="" aria-hidden="true" /> प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सन् 1857 में मेरठ, कानपुर, लखनऊ, दिल्ली, बैरक्पुर आदि के विद्रोह की लपटें यहाँ भी पहुंची। तात्या टोपे और नाना साहेब पेशवा के संदेश वाहक ग्वालियर, इंदौर, महू, नीमच, मंदसौर, जबलपुर, सागर, दमोह, भोपाल, सीहोर और विंध्य के क्षेत्रों में घूम-घूमकर विद्रोह का अलख जगाने में लग गए। उन्होंने सथानीय राजाओं और नवाबों के साथ-साथ अंग्रेजी छावनियों के हिंदुस्तानी सिपाहियों से संपर्क बनाए। इस कार्य के लिए "रोटी और कमल का फूल" गांव-गांव में घुमाया जाने लगा। मुगल शहजादे हुमायूँ इन दिनों

पूर्व विधायक ने लगाया आप पर आरोप !

चित्र
https://youtu.be/caNgQakotRw

Nonstop news

चित्र
https://youtu.be/o_qz82VxBXY

क्या महेंद्र सिंह धोनी अब नहीं खेल पाएंगे ?

चित्र
https://youtu.be/mhE2nrXIICk .

10 मिनट में 100 खबर |

चित्र
https://youtu.be/V57XU-WNATk

आज की ताजा खबर |

चित्र
https://youtu.be/iaqhgGIEK-Y

आज की ताजा खबरें |

चित्र
https://youtu.be/lEPcFJpjtmw

अब तक की बड़ी खबरें |

https://youtu.be/c5UgTdFd_gI

top 100 news

https://youtu.be/Of11NHQv2fg

भारत की सबसे बड़ी जनगणना

https://youtu.be/-F-K_XeS0MQ  

top 25 news

https://youtu.be/f4nNy-snt38  

एक सेठ की नाव डूब रही थी, तभी उसे एक मछवारा दिखाई दिया, सेठ ने मछवारे कहा कि मुझे बचा लो मैं तुम्हें मेरी पूरी संपत्ति दे दूंगा

  जीवन मंत्र डेस्क।  हमारे मन जब भी कोई अच्छा काम करने का विचार आए तो उसे तुरंत कर लेना चाहिए। अच्छे काम को टालना नहीं चाहिए, वरना बाद में बुरे विचार बढ़ने लगते हैं और हम अच्छे काम को करने का विचार छोड़ देते हैं। इस संबंध में एक लोक कथा प्रचलित है। कथा के अनुसार एक सेठ नाव से नदी पार कर रहा था। रास्ते में उसकी नाव में छेद हो गया और वह डूबने लगा। उसने एक मछवारे को देखा तो उसे आवाज लगाकर मदद के लिए बुलाया। सेठ ने मछवारे से बोला कि मुझे बचा लो मैं तुम्हें अपनी सारी संपत्ति दे दूंगा। मछवारे ने सेठ को अपनी नाव में बैठा लिया। कुछ देर बाद सेठ सोचने लगा कि मैंने कुछ ज्यादा हो बोल दिया है, पूरी संपत्ति दे दूंगा तो मैं क्या करूंगा। उसने मछवारे से कहा कि भाई बुरा मत मानना, लेकिन मैं तुम्हें संपत्ति नहीं दे पाउंगा, मेरी पत्नी गुस्सा करेगी। मछवारे ने कुछ नहीं कहा। सेठ फिर सोचने लगा कि इसने कौन सा बड़ा काम किया है, सिर्फ मुझे बचाया ही तो है। ये तो इसका धर्म है। मानवता के नाते इसे मुझे बचाना ही था। इस छोटे से काम के लिए इतनी संपत्ति नहीं दे सकता। उसने फिर मछवारे से कहा कि भाई मेरी पत्नी और बच्चे भी ह

जिन लोगों का जन्म 1 या 10 तारीख को हुआ है, उन्हें इस सप्ताह धैर्य से लेना होगा काम, 2 तारीख को जन्मे लोगों को मेहनत का फल मिल सकता है

    जीवन मंत्र डेस्क.  भविष्य बताने वाली कई विद्याएं प्रचलित हैं। इनमें अंक ज्योतिष का भी महत्वपूर्ण स्थान है। इस विद्या में जन्म तारीख के आधार पर भविष्यवाणी की जाती है। जनवरी के दूसरे सप्ताह यानी 6 जनवरी से 12 जनवरी तक कुछ लोगों भाग्य का साथ मिलने वाला है। जबकि कुछ लोगों को कड़ी मेहनत करनी होगी।  उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए जन्म तारीख के आधार पर आपके लिए ये सप्ताह यानी 5 से 11 जनवरी तक का समय आपके लिए कैसा रहेगा... जिन लोगों की जन्म तारीख 1, 10,19 या 28 है   इस सप्ताह नकारात्मक विचारों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे विचारों की वजह से आपके कार्यों में बाधाएं बढ़ सकती हैं। रिश्तेदारों की ओर से कोई दुखद समाचार मिल सकता है। धैर्य बनाए रखें। निकट भविष्य में समय पक्ष का हो जाएगा। और पढ़ें जिन लोगों की जन्म तारीख 2, 11, 20 या 29 है   पुराने समय में की गई मेहनत का फल इस सप्ताह मिल सकता है। निवेश से लाभ मिलने के योग हैं। यात्रा आपके लिए लाभदायक हो सकती है। घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान मिल सकता है। और पढ़ें जिन लोगों की जन्म तारीख 3, 12, 21 या 30 है   नौकरी में प्

जिन लोगों का जन्म 1 या 10 तारीख को हुआ है, उन्हें इस सप्ताह धैर्य से लेना होगा काम, 2 तारीख को जन्मे लोगों को मेहनत का फल मिल सकता है

    जीवन मंत्र डेस्क.  भविष्य बताने वाली कई विद्याएं प्रचलित हैं। इनमें अंक ज्योतिष का भी महत्वपूर्ण स्थान है। इस विद्या में जन्म तारीख के आधार पर भविष्यवाणी की जाती है। जनवरी के दूसरे सप्ताह यानी 6 जनवरी से 12 जनवरी तक कुछ लोगों भाग्य का साथ मिलने वाला है। जबकि कुछ लोगों को कड़ी मेहनत करनी होगी।  उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए जन्म तारीख के आधार पर आपके लिए ये सप्ताह यानी 5 से 11 जनवरी तक का समय आपके लिए कैसा रहेगा... जिन लोगों की जन्म तारीख 1, 10,19 या 28 है   इस सप्ताह नकारात्मक विचारों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे विचारों की वजह से आपके कार्यों में बाधाएं बढ़ सकती हैं। रिश्तेदारों की ओर से कोई दुखद समाचार मिल सकता है। धैर्य बनाए रखें। निकट भविष्य में समय पक्ष का हो जाएगा। और पढ़ें जिन लोगों की जन्म तारीख 2, 11, 20 या 29 है   पुराने समय में की गई मेहनत का फल इस सप्ताह मिल सकता है। निवेश से लाभ मिलने के योग हैं। यात्रा आपके लिए लाभदायक हो सकती है। घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान मिल सकता है। और पढ़ें जिन लोगों की जन्म तारीख 3, 12, 21 या 30 है   नौकरी में प्

चंद्र ग्रहण शुक्रवार रात 10.38 बजे से शुरू होकर 2.42 बजे खत्म होगा

  चंद्रमा के आगे छा जाएगी धूल जैसी परत, घटता-बढ़ता नहीं दिखेगा पिछले 10 साल में 6 बार हो चुका है ऐसा मांद्य चंद्र ग्रहण शशिकांत साल्वी Jan 07, 2020, 08:43 AM IST भोपाल.  शुक्रवार 10 जनवरी 2020 यानी पूर्णिमा को मांद्य चंद्र ग्रहण लगेगा। मांद्य चंद्र ग्रहण होने से इस ग्रहण का सूतक नहीं रहेगा। ग्रहण काल में पूजा-पाठ आदि कर्म किए जा सकेंगे। नासा ने भी अपनी वेबसाइट पर चंद्र ग्रहण दिखने वाली जगहों में भारत का जिक्र किया है लेकिन ये ग्रहण वैसा नहीं है, जिसे आसानी से देखा जा सकता है। इसमें चंद्रमा घटता-बढ़ता नहीं दिखाई देगा, सिर्फ चंद्र के आगे धूल की एक परत-सी छा जाएगी। इस कारण ज्योतिषीय मत में चंद्र ग्रहण का कोई असर नहीं होगा। 2020 से पहले ऐसा चंद्र ग्रहण 11 फरवरी 2017 को दिखा था। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा  के अनुसार साल 2020 में चंद्र ग्रहण को लेकर कई पंचांग भेद हैं। कुछ पंचांगों के अनुसार तो इस साल चंद्र ग्रहण होंगे ही नहीं, जबकि कुछ पंचांग में साल भर में 4 चंद्र ग्रहण होंगे। निर्णय सागर पंचांग के मुताबिक 10 जनवरी को लगने वाला ग्रहण रात में 10.38 बजे से शुरू होगा। इसका मध्य 12.

चंद्र ग्रहण शुक्रवार रात 10.38 बजे से शुरू होकर 2.42 बजे खत्म होगा

  चंद्रमा के आगे छा जाएगी धूल जैसी परत, घटता-बढ़ता नहीं दिखेगा पिछले 10 साल में 6 बार हो चुका है ऐसा मांद्य चंद्र ग्रहण शशिकांत साल्वी Jan 07, 2020, 08:43 AM IST भोपाल.  शुक्रवार 10 जनवरी 2020 यानी पूर्णिमा को मांद्य चंद्र ग्रहण लगेगा। मांद्य चंद्र ग्रहण होने से इस ग्रहण का सूतक नहीं रहेगा। ग्रहण काल में पूजा-पाठ आदि कर्म किए जा सकेंगे। नासा ने भी अपनी वेबसाइट पर चंद्र ग्रहण दिखने वाली जगहों में भारत का जिक्र किया है लेकिन ये ग्रहण वैसा नहीं है, जिसे आसानी से देखा जा सकता है। इसमें चंद्रमा घटता-बढ़ता नहीं दिखाई देगा, सिर्फ चंद्र के आगे धूल की एक परत-सी छा जाएगी। इस कारण ज्योतिषीय मत में चंद्र ग्रहण का कोई असर नहीं होगा। 2020 से पहले ऐसा चंद्र ग्रहण 11 फरवरी 2017 को दिखा था। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा  के अनुसार साल 2020 में चंद्र ग्रहण को लेकर कई पंचांग भेद हैं। कुछ पंचांगों के अनुसार तो इस साल चंद्र ग्रहण होंगे ही नहीं, जबकि कुछ पंचांग में साल भर में 4 चंद्र ग्रहण होंगे। निर्णय सागर पंचांग के मुताबिक 10 जनवरी को लगने वाला ग्रहण रात में 10.38 बजे से शुरू होगा। इसका मध्य 12.